क्या समंदर भी कभी रोता होगा


क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे 
जब रेत बाँहों से फिसलती है उसकी... 
क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे 
जब सूरज हर रोज़ उसके सीने में पिघलता होगा,
क्या समंदर भी कभी रोता होगा 

यु तो बेहद मजबूर से है तेवर उसके,
पर क्या वो भी कभी टूटता होगा,
जैसे पिघलती है मोम आईने पे धीरे से 
हर कदम को सँभालते हुए,
जैसे हार रही हो हर चाल के साथ,
क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे 
अपनी लहरों को मचलते देख 
क्या समंदर भी कभी रोता होगा

किसी शायर की ग़ज़ल के जैसे जब कोई उसकी गहराई को छुटा है,
अपनी तन्हाई पे क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे... 
जैसे रुक गई हों ख्वाहिशें किसी मासूम की,
वो तक़दीर के खेल पे 
क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे 

कभी शाम को मैंने भी अपने गम समंदर में बहाएं हैं 
क्या उनको अपने पलकों में समेत के 
क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे 
सोचता होगा मेरी गहराई में दफन हैं राज़ कितने... 
क्या उन कहानियों को दोहरा के अपने जेहेन में 
क्या समंदर भी कभी रोता होगा, किसी किनारे

- Ashk

Comments

  1. These embrace white papers, authorities information, authentic reporting, and interviews with business consultants. We additionally reference authentic analysis from other respected publishers where appropriate. You can be taught more about the standards we follow in producing accurate, unbiased content in oureditorial coverage. We’re working hard to add new partners every single day and we’re at all times on the lookout for corporations thinking double sided tape about creating new, innovative supplies for 3D printing. Yet, that is just the tip of the iceberg when it comes to of|in relation to} additive manufacturing’s potential.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जुरत कर बैठ.....

The Creaking Chair - Part XXX